Thursday, February 22, 2018

PLEASE REPLY ME THROUGH MY PRIVATE EMAIL ADDRESS (missaminageorgesaitoti@mail.com)

 

My dear hear the cry of an orphan as i have noticed that I am orphan, first of all let me introduce myself to you before I will go ahead for my reason of contacting you,

My name is Miss Amina Saitoti 21yrs old female the only daughter of George Saitoti the former Kenyan Internal Security Minister,  My beloved father George Saitoti and his assistant Joshua Orwa Ojodeh were killed in a helicopter crash in Ngong Forest in Kenyan East Africa. The accident happened on June 10th 2012. On Sunday few minutes after they had taken off from Wilson Airport Kenyan with a new police helicopter, heading for a fundraiser in Ndiwa constituency. You can read more about the incidence trough the below website,

 

http://edition.cnn.com/2012/06/10/world/africa/kenya-minister-killed/index.html 

 

throughout when my father was alive, his wife which i take as my mother and his son as my blood brother without knowing they are not my biologically  mother and blood brother, because i noticed that my mother don't visit me in school as my father do also she don't she me any motherly care, and my brother don't come close to me even if i called him on phone he don't like to pick my calls, infarct they all behalves string characters to me is only my father that take care of me and show me love, and i never know that my father adopted me and i never know that the person i called my biologically mother is not my mother and my brother is not my blood brother as i think before the death of my father, After the burial of my father, my mother start changing all my father's property to her son personal name been my brother. i said nothing because i know my mother don't love me, few months later our family lawyer visited us and said that she want to see me alone and my mother pick offence about that and said that the lawyer should explain why in public, and the lawyer refuse to do that, finally the lawyer called me out and see me alone, also hand over to me my father will certificate about me and a deposit certificate of a huge amount of money $5.5Million United State Dollars, in one bank with my name as the legal next of kin to inherit the fund in another country called Burkina Faso.

 

but due to i have noticed that the person i called my mother don't love me i have to hide the documents away before coming back to house on my return my mother called me with my brother ask me what happened and i explain to them, and she become angry with me with my brother, because of this the person i called my mother explain everything about me and tell me that the money did not belong to me, because i was adopted by my father, also said that she is not in support of the adoption, and said for that reason I must give her the fund documents, and look for someone that will go and leave her husband house, I cried with agony and the person i called my brother beat me merciless and necked me with all kind of maltreatment and luck me in toilet, for 2days, finally i escape from our house to the nearby city with the documents,   Now I am constrained to contact you because of the abuse and maltreatment I am receiving from the woman her son because i will not call her my mother again hence I have noticed that she is not my mother. So I decided to I traveled to Burkina Faso to withdraw the money for a better life so that I can take care of myself and start a new life, on my arrival, the Bank Director whom I met in person told me that my father's instruction/will to the bank is that the money would only be release to me when I am married or present a foreign trustee who will help me and invest the money overseas.

 

Presently seeking asylum under the United Nations High Commission for the Refugee here in Ouagadougou, Republic of Burkina Faso. Because I don't have money to lodge in a Hotel, I am in search of an honest and reliable person who will help me and stand as my trustee so that I will present him to the Bank for transfer of the money to his bank account in overseas. I have chosen to contact you after my prayers and I believe that you will not betray my trust. But rather take me as your own sister or daughter. So my father of blessed memory deposited the sum of (US$5.500, 000) Dollars in Bank with my name as the next of kin. However, I shall forward you with the necessary documents on confirmation of your acceptance to assist me for the transfer country. As you will help for the investment, and I will like to complete my studies, as I was in my year (1)  in the university when my beloved father died. It is my intention to compensate you with 40% of the total money for your services and the balance shall be my capital in your establishment. As soon as I receive your positive response showing your interest I will put things into action immediately. In the light of the above. I shall appreciate an urgent message indicating your ability and willingness to

Handle this transaction sincerely.

 

Please don't disclose it to any one until I come over because I am afraid of This woman who has threatened to kill me and have the money alone, I thank God Today that am out from my country (KENYA) but now In (Burkina Faso) where my father deposited these money with my name as the next of Kin. I have the documents for the claims.

Yours Sincerely

Miss Amina Saitoti

 

PLEASE REPLY ME THROUGH MY PRIVATE EMAIL ADDRESS (missaminageorgesaitoti@mail.com)

 

Saturday, February 17, 2018

कायापलट इसे कहते है 

कल तक जी हज़ूरी था करता ,बड़े साहब का था जो नौकर 
एक बड़ा अफसर बन बैठा ,जब उसका बेटा पढ़ लिख कर 
सरकारी बंगले में उसकी ,सेवा में  नौकर रहते है 
                                काया पलट इसे कहते है 
कल तक जिस जमीन के ऊपर ,बना हुआ था एक कूड़ाघर 
देखो उस  धरती के टुकड़े पर है  आज बन गया मंदिर    
कल तक कूड़ा जहाँ फेकते ,लोग टेकते सर रहते है 
                                  काया  पलट  इसे कहते है 
 लोगों के घर झाड़ू पोंछा किया और बच्चों को पाला 
बना  देश का  ऊंचा  नेता ,बेटा  चाय बेचने वाला 
   माँ के हाथ ,आज भी उसको,आशीषें देते रहते है 
                                  काया पलट इसे कहते है  
माया की माया देखो तुम ,कैसे समय बदल जाता है 
कल का'परश्या','परसू' बन अब 'परसराम'जी कहलाता है  
शीश झुकाने वाले को अब ,लोग प्रणाम किया करते है 
                                      काया पलट इसे कहते है 
रोबीले वो शेर सरीखे ,जब दहाड़ते है दफ्तर में 
भीगी बिल्ली से मिमियाते ,पत्नी के आगे वो घर में 
दफ्तर में जिनसे सब डरते ,बीबी से डर कर रहते है
                                     काया पलट इसे कहते है 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'              
बुढ़ापा बोल रहा है 

अब तन कर चलने में भी तन डोल रहा है 
                             बुढ़ापा बोल रहा है 
क्षुधा क्षरित है,पचनशक्ति भी क्षीण हो गयी 
मुख मंडल की आभा ,कान्ति विहीन हो गयी 
सर के  केश सफ़ेद,हुई   खल्वाट  खोपड़ी  
राजमहल सा बदन रह गया  मात्र  झोपडी  
शिथिल  हो गए अंग ,ठीक से काम न करते 
धुंधलाए से नयन ,नहीं,  चहु ओर  विचरते 
कसी ,गठीली काया ,झुर्रीवान  हो गयी 
रखती थी जो शान,वही पहचान खो गयी 
सुमुखियों मुख ,बाबा सुन खूं  खौल रहा है 
                             बुढ़ापा बोल रहा है 
बिदा हुए मुख से एकएक कर दांत कटीले 
त्याग  रही संग, याददाश्त भी  ,धीरे धीरे 
छोड़ साथ ,बच्चे खुश ,अपने परिवारों में 
अब हम ,चीज ,पैर  छूने की,त्योंहारों में 
साथ उमर के मिले नए कुछ संगी,साथी 
कई व्याधियां मिली,उम्र भर,साथ निभाती 
रोमांटिक यह हृदय ,धड़कता बन कर रोगी 
मिष्ठानो का प्रेमी ,अब बन गया  वियोगी 
है निषिद्ध पकवान ,देख मन डोल  रहा है 
                             बुढ़ापा बोल रहा है 
काम नहीं कुछ,दिन भर छायी रहे उदासी 
ब्लड का प्रेशर बढ़ा और आती है खांसी 
बदल करवटें रात कटे और नींद न आये 
बीते दिन की यादें रह रह कर तड़फाये 
दिन भर टीवी देख न्यूज़ पेपर को चाटें 
बहुत अधिक चुभते जीवन के अब सन्नाटे 
वृद्ध कहो हमको वरिष्ठ या बोलो  बूढा 
गयी बहारें मगर  ,हुआ ये जीवन कूड़ा 
बीत गया वो मौसम ,जो अनमोल रहा है 
                           बुढ़ापा बोल रहा है 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

Thursday, February 15, 2018

मन का ये भ्रमजाल हट गया 

तन ऊर्जा सहमी सहमी थी 
पर मन में गहमा गहमी थी 
मैं बूढ़ा ना ,अभी जवाँ  हूँ ,
मन में यही गलत फहमी थी  
देख जाल झुर्री का तन पर ,
मन का यह भ्रमजाल हट गया 
तन की अगन पड़  गयी ठंडी ,
अरमानो का जोश घट गया
देख कली को, मंडराता था 
झट से मचल मचल जाता था 
जब भी दिखती हुस्न ,जवानी ,
दीवानापन सा छाता था 
जाल पड़ा,आँखें धुंधलाई 
अब उनका दीदार घट गया
 तन की अगन पड़ गयी ठंडी ,
अरमानो का जोश घट गया 
गयी जवानी ,गया जमाना 
शुरू हुआ अब पतझड़ आना 
लेकिन मन का बूढा बंदर,
भूला नहीं गुलाट  लगाना 
श्वान पुच्छ सी रही आशिक़ी ,
इसका टेढ़ापन न  हट गया 
तन की अगन पड़ गयी ठंडी ,
अरमानो का जोश घट गया 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'
गरदन ने अदब सीख लिया 

ऐसा ईश्वर ने गढ़ा रूप उनका सुन्दर सा ,
 हर एक कटाव और उठान में तूफ़ान भरा ,
मिल गयी देखने को झलक उनकी हलकी सी ,
           हमको तक़दीर ने कुछ ऐसी इनायत दे दी 
एक बच्चे सा गया मचल मचल मन पागल 
खिलौना देख कर सुन्दर सा ,बड़ा ललचाया ,
आ गया जिद पे कि पा जाऊं ,बनालू अपना 
      उसको हासिल करूँ ,कैसे भी ये हसरत दे दी 
बिना झलकाये पलक ,देर  तलक तकता रहा ,
नहीं हट पाई  निगाह  दूर उनके चेहरे  से ,
हे  खुदा तूने ये कैसा बनाया इन्सां  को ,
      आशिक़ी करने की इस दिल को क्यों आदत दे दी 
हुस्न का उनके हम दीदार करें ,करते रहे ,
लाख रह रह के रही आँख यूं ही रिरियाती ,
शुक्र है वो तो ये गरदन ने अदब सीख लिया ,
      जरा सी  झुक  गयी ,उसको ये शराफत दे दी        

मदन मोहन बाहेती 'घोटू'
तुम, तुम हो
--------------
गर्मी में शीतलता,
सर्दी में ऊष्मा
बारिश में भीगापन,
बासंती सुषमा
हर ऋतू में मनभाती
मुस्काती,मनभाती
मस्ती की धुन हो
तुम ,तुम हो
ग्रीष्म में शिमला की,
वादियों सी शीतल
बरफ की चुस्की की तरह,
रसभरी,मनहर
शीतल जल की घूँट की तरह,
तृप्ति प्रदायिनी
चांदनी में बिछी सफ़ेद चादरों सी,
सुहावनी
आम के फलों की तरह,
मीठी और रसीली तुम  हो
तुम,तुम हो
सर्दी में जयपुर की गुदगुदी,
रजाई सी सुहाती
सूरज की गुनगुनी ,
धूप सी मनभाती 
मक्की की रोटी और सरसों के ,
साग जैसी स्वाद में
गरम अंगीठी की तरह तपाती,
ठिठुराती रात में,
रस की खीर,गरम जलेबी,
या रसीला गुलाबजामुन हो
तुम,तुम हो
वर्षा की ऋतू में सावन की,
बरसती फुहार
जुल्फों की बदली से,
आँखों की बिजली की चमकार
आँख मिचोली खेलती हुई,
सूरज की किरण
या गरम चाय के साथ,
पकोड़ी गरम गरम
दूर दूर तक फैली हरियाली,
भीगा हुआ मौसम हो
तुम, तुम हो
बासंती ऋतू की,
मस्त  मस्त बहार 
प्यार भरी, होली के,
रंगों की बौछार
फूलों की क्यारियों की,
गमक  और महक
कोयल की कुहू कुहू,
पंछियों की चहक
वृक्षों के नवल पात सी कोमल,
पलाश सा,रंगीला फागुन हो
तुम ,तुम हो

मदन मोहन बाहेती 'घोटू'  

Friday, February 9, 2018

बदलाव 

तुम कहती हो मैं बदल गया ,बदलाव प्रकृति का नियम है 
बच्चे,जवान और फिर बूढ़े, होकर के बदला करते हम  है 
सरदी गरमी और फिर बरखा ,ऋतू बदल बदल कर आती है 
ठंडी बयार  बासंती से ,लू का झोंका बन जाती है 
चंद्र कलाएं निश  दिन ही ,अम्बर में बदला करती है 
और नदियों के उज्जवल जल को ,बारिश आ गंदला करती है 
कच्ची अमिया बनती अचार ,या पक्ति आम रसीला बन 
महकाती गुलशन विकसित हो,जब कैलियों पर आता यौवन 
बनता गुलाब का इत्र कभी,गुलकंद कभी बन जाता है 
करती रसपान मधुमख्खी,छत्ता रस से भर जाता  है 
छत्ता बन माँ ,शमा बनता ,हर चीज बदलती बहुतेरी 
कंचन काया का अंत सदा ,होता है एक राख  ढेरी 
 परिवर्तनशील सदा जीवन ,हर चीज बदलती क्षण क्षण है 
तुम कहती हो मैं बदल गया ,बदलाव प्रकृति का नियम है 

घोटू