Wednesday, September 20, 2017

मन बहला लिया करता 

मैं अपने मन को बस इस तरह से ,बहला लिया करता 
तुम्हारे हाथ, कोमल उँगलियाँ ,सहला  लिया करता 
कभी कोशिश ना की,पकड़ ऊँगली,पहुँचू ,पोंची तक,
मैं अपनी मोहब्बत को ,इस तरह  रुसवा नहीं करता 
जी करता है बढ़ूँ आगे ,शराफत रोक लेती  पर ,
जबरजस्ती कभी ना, तुमसे 'हाँ' कहला लिया करता 
भावना की नदी में जब उमड़ कर बाढ़ आती है,
मैं उसका रुख ,किसी और रास्ते ,टहला लिया करता 
जाम हो सामने ,पीने की पर जुर्रत न कर पाता ,
सब्र का घूँट पीकर ,खुद को मैं बहला लिया करता 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'
छोड़े न मगर गुलगुले गए 

कुछ आयेगें और खायेगें ,कुछ आये ,आकर चले गये 
हम तो वो पकोड़े है हरदम, जो गर्म तेल में तले गये 
झूठें वादों से सबने ही ,बस अपना उल्लू सीधा किया,
और सीधेसादे लोग सदा,उनकी बातों से  छले  गये 
हल नहीं हुआ कोई मसला,हालत जैसी थी,वैसी रही ,
सांडों की लड़ाई में हमतुम ,बस यूं ही बीच में दले गये 
इस तरह हुई छीछालेदर ,हम इधर जायें या उधर जायें ,
दुश्मनी मोल ले ली उससे ,यदि लग जो इसके गले गये 
कुछ इस दल में ,कुछ उस दल में,सब फसें हुए है दलदल में ,
इस राजनीती के दंगल में ,कितनो के ही दल बदले गये 
सिद्धांतों की बातें करते ,ऐसे परहेजी लोग मिले ,
कहने को तो गुड़ छोड़ दिया ,छोड़े न मगर गुलगुले गये 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'
सर्वपितृ अमावस -नमन पुरखों को 

हम अपने पुरखों को ,कोटि कोटि करें नमन  ,
दौड़ रहा रग रग में ,अंश उनका अब भी है 
उनकी ही कृपा और आशीषों का फल है,
विकसित,फलफूल रहा वंश उनका अब भी है 
उनके ही भले करम और दिया दान धरम ,
का ही ये  परिणाम ,आज नाम और यश है 
आओ हम श्रद्धा से ,उनको दें श्रद्धांजलि ,
श्राद्ध करें ,क्योंकि आज ,सर्वपितृ मावस है 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

Tuesday, September 19, 2017

हम साथ साथ है 

बहुत उछाला, इक दूजे पर हमने कीचड़ 
बहुत गालियां दी आपस में आगे बढ़ बढ़ 
जो भड़ास थी मन में ,सारी निकल गयी है 
ये जुबान भी अब चुप है,कुछ संभल गयी है 
भाई भाई में ,खटपट तो चलती रहती  है 
जाने अनजाने  होती  गलती   रहती   है 
अहम और दुर्भाव हृदय से सभी निकाले 
बिखर न जाए,ये घर अपना ,इसे  संभाले 
छोड़ दुश्मनी,चलो मिला ले,हाथआज हम 
कल भी थे और सदा रहेंगे ,साथ साथ हम

मदन मोहन बाहेती'घोटू' 

Monday, September 11, 2017

अकेले जिंदगी जीना 

     किसी को क्या पता है कब ,
     बुलावा किसका  आ जाये 
     अकेले जिंदगी  जीना ,
     चलो अब सीख हम जाये 
अकेला था कभी मैं भी,
अकेली ही कभी थी तुम 
मिलाया हमको किस्मत ने ,
हमारा बंध गया  बंधन 
मिलन के पुष्प जब विकसे,
हमारी बगिया मुस्काई 
बढ़ा परिवार फिर अपना ,
और जीवन में बहार आई 
हुए बच्चे, बड़े होकर 
निकल आये जब उनके पर 
हमारा घोसला छोड़ा ,
बसाया उनने अपना घर 
        अकेले रह गए हमतुम ,
        मगर फिर भी न घबराये 
        अकेले जिंदगी जीना ,
       चलो अब सीख हम जाये 
हुआ चालू सफर फिर से,
अकेले जिंदगी पथ पर 
सहारे एक दूजे  के ,
आश्रित एक दूजे पर 
बड़ा सूना सा था रस्ता ,
बहुत विपदा थी राहों में 
गुजारी जिंदगी हमने ,
एक दूजे की बाहों में 
गिरा कोई जब थक कर ,
दूसरे ने उसे थामा  
कोई मुश्किल अगर आई 
कभी सीखा न घबराना 
       परेशानी में हम ,हरदम,
        एक दूजे के  काम आयें 
        अकेले जिंदगी जीना ,
        चलो अब सीख हम जाये 
ये तय है कोई हम में से,
जियेगा ,ले, जुदाई  गम 
मानसिक रूप से खुद को,
चलो तैयार कर ले हम 
तुम्हारी आँख में आंसूं ,
देख सकता कभी मैं ना  
अगर मैं जाऊं पहले तो ,
कसम है तुमको मत रोना 
रखूंगा खुद पे मैं काबू,
अगर पहले गयी जो तुम 
तुम्हारी याद में जीवन ,
काट लूँगा,यूं ही गुमसुम 
        मिलेंगे उस जहाँ में हम ,
        रखूंगा ,मन को समझाये 
       अकेले जिंदगी जीना ,
       चलो अब सीख हम जाये 
भले ही यूं अकेले में ,
लगेगा ना ,किसी का जी 
काटना वक़्त पर होगा ,
बड़ी मुश्किल से ,कैसे भी 
साथ में रहने की आदत ,
बड़ा हमको सतायेगी 
तुम्हारा ख्याल रखना ,
प्यार,झिड़की ,याद आयेगी 
सवेरे शाम पीना चाय 
तनहा ,बहुत अखरेगा 
दरद  तेरी जुदाई का ,
कभी आँखों से छलकेगा 
        पुरानी यादें आ आ कर ,
       भले ही दिल को तड़फाये 
       अकेले जिंदगी जीना ,
       चलो अब सीख हम जायें 

मदन मोहन बहती'घोटू'
उचकते है 

कुछ पैसे पा उचकते है 
कुछ कुर्सी पा उचकते है 
मिले जो सुंदरी  बीबी ,
कुछ खुश होकर उचकते है 
 कोई सुन्दर ,जवां लड़की ,
गुजरती जो नज़र आती 
झलक हलकी सी पाने को,
वो पागल से उचकते है 
किसी बेगानी शादी में ,
बने अब्दुल्ला दीवाने ,
उनकी फोटो भी आ जाए 
वो रह रह कर उचकते है 
ये पंजों से गले तक की,
उचकना एक कसरत है ,
कई व्यायाम के प्रेमी,
सवेरे से उचकते है
जहाँ कुछ देना होता है ,
वो चुपके से खिसक जाते,
हो लेना तो मुझे दे दो,
ये कह कह कर उचकते है 

घोटू  
क्या मैं न्याय कर पारहा हूँ?

मुझे मेरे माँ बाप ने मिल कर जन्म दिया 
बड़े ही प्यार से मेरा पालन पोषण  किया 
माँ ने ऊँगली पकड़ कर चलना सिखाया 
पिताजी ने जीवनपथ में संभलना सिखाया 
माँ ने उमड़ उमड़ कर बहुत सारा लाड़ लुटाया 
पिताजी ने डाट डाट कर अनुशासन सिखलाया 
उन्होंने पढ़ालिखा कर जिंदगी में 'सेटल'किया 
हर मुश्किल में  हाथ  थाम कर ,मुझे संबल दिया 
एक दिन पिताजी ना रहे ,एक दिन माँ भी ना रही  
उनके बिना जीवन में कुछ दिनों बड़ी बेचैनी रही
मैंने उनकी तस्वीर दीवार पर टांगी ,पर इंटीरियर 
डेकोरेटर की सलाह पर पत्नी ने उसे हटा दिया 
फिर पूजागृह में रखी पर मृत व्यक्तियों की तस्वीर 
पूजागृह में रखने से  ,वास्तुशास्त्री ने मना किया 
औरआजकल माताऔर पिताजी मेरी यादो में बंद है  
और उन दोनों की तस्वीरें ,कबाड़ के बक्से में बंद है 
पिताजी का नाम तो जब तक मैं जिन्दा हूँ ,जिंदा रहेगा 
क्योकि मेरे नाम के साथ वल्दियत में वो लिखा जा रहा है 
पर मेरी माँ ,जिसने मुझे नौ महीने तक  कोख में रखा ,
उनका नाम कभी भी,कहीं भी ,नज़र नहीं आ रहा है 
मैं वर्ष में दो बार ,एक उनकी पुण्यतिथि पर और एक श्राद्ध में ,
ब्राह्मण को भोजन करवा कर ,अपना कर्तव्य निभा रहा हूँ 
पर रह रह कर मेरा दिल मुझ से एक सवाल पूछता है  
कि क्या मैं सचमुच ,उनके साथ न्याय कर पा रहा हूँ?

मदन मोहन बाहेती 'घोटू'